Chale Chalo
Author: Brijmohan

Source:  Kranti Geet, published by Rashtriya Yuva Sanghatan.


चले चलो...

Dhadgaon: 2002.  Jamin Haq Yatra


 

 

 

 

 

 

 

 

चले चलो दिलों में घाव ले के भी चले चलो 
चलो लहुलूहान पांव ले के भी चले चलो 
चलो कि आज साथ साथ चलने की ज़रूरतें 
चलो कि ख़त्म हों न जाएँ ज़िंदगी की हसरतें 
चले चलो .....

 

ज़मीन ख़्वाब ज़िंदगी यक़ीन सबको बांटकर
वो चाहते हैं बेबसी में आदमी झुकाये सर
वो चाहते हैं जिंदगी हो रोशनी से बेख़बर
वो एक एक करके अब जला रहें हैं हर शहर
 
जले हुए घरों के ख्वाब लेके भी चले चलो
चलो लहूलुहान पांव.......
 

  
वो चाहते हैं बांटना दिलों के सारे वलवले 

वो चाहते हैं बांटना ये ज़िंदगी के काफिले
वो चाहते हैं ख़त्म हो उम्मीद के ये सिलसिले
वो चाहते हैं गिर सकें ना लूट के ये सब किले

सवाल ही हैं अब जवाब लेके भी चले चलो
चलो लहूलुहान पांव..........

वो चाहते हैं जातियों की  बोलियों की फूट हो
वो चाहते हैं धर्म को  तबाहियों की छूट हो

वो चाहते हैं जिंदगी में हो फरेब झूठ हो
वो चाहते हैं जिस तरह भी हो मगर ये लूट हो

सिरों पे जो बची है छांव लेके भी चले चलो
चलो लहूलुहान पांव..........

चले चलो दिलों में घाव ले के भी चले चलो 
चलो लहुलूहान पांव ले के भी चले चलो 
चलो कि आज साथ साथ चलने की ज़रूरतें 
चलो कि ख़त्म हों न जाएँ ज़िंदगी की हसरतें 
चले चलो .....

 

चले चलो... चले चलो... चले चलो...

 

Chale chalo dilon me ghav leke bhi chale chalo,
Chalo lahuloohan paon leke bhi chale chalo,
Chalo ki aaj saath-saath chalne ki zaruratein,
Chalo ki khatm hon na jayen zindagi ki hasratein. Chale chalo...


Zameen, khawab, zindagi, yaqeen, sab ko bantkar,
Woh chahate hain bebasi mein aadmi jhukaye sar,
Woh chahate hain zindagi ho roshani se bekhabar,
Woh ek-ek karke ab jala rahe hain har shahar,

Jale hue gharon ke khawab leke bhi chale chalo.
Chalo lahuloohan paon...

Woh chahate hain baantana dilon ke sare valvale,
Woh chahate hain baantana yeh zindagi ke kafile,
Woh chahate hain khatm ho ummeed ke yeh silsile,
Woh chahate hain gir sake na loot ke yeh sab kile,

Sawal hi hai aab jawab leke bhi chale chalo.
Chalo lahuloohan paon...

Woh chahate hain jatiyon ki, boliyon ki phoot ho,
Woh chahate hain dharm ko tabahiyon ki chhoot ho,
Woh chahate hain zindagi me ho fareb, jhooth ho,
Woh chahate hain jis tarah bhi ho magar yeh loot ho,

Siron pe jo bachi hai chhanv leke bhi chale chalo.
Chalo lahuloohan paon...

Chale chalo dilon me ghav leke bhi chale chalo,
Chalo lahuloohan paon leke bhi chale chalo,
Chalo ki aaj saath-saath chalne ki zaruratein,
Chalo ki khatm hon na jayen zindagi ki hasratein.

Chale chalo.... Chale chalo... Chale chalo...

 

Back to Inspiration ... from the heart and from the streets

 
< Prev   Next >